Read Anywhere and on Any Device!

Subscribe to Read | $0.00

Join today and start reading your favorite books for Free!

Read Anywhere and on Any Device!

  • Download on iOS
  • Download on Android
  • Download on iOS

Itihas Parampara Aur Aadhunikta

Itihas Parampara Aur Aadhunikta

Dayanidhi Mishra
0/5 ( ratings)
समाज की काल चेतना से जुड़कर 'इतिहास,परंपरा और आधुनिकता' जैसी अवधारणाओं ने आज अनेक अर्थ ग्रहण कर लिए हैं और इनकी व्याख्या और उपयोग का दायरा बंता बिगड़ता रहा है। आमतौर पर संस्कृति में होने वाले परिवर्तन और उसकी निरंतरता को आत्मसात करने के लिए इन शब्दों का व्यवहार किया जाता है। प्रस्तुत पुस्तक में जो विचार उभरे हैं वे निर्विवाद रूप से इस तथ्य की ओर संकेत करते हैं कि बिना विचारे पशिम का अंधानुकरण भारतीय समाज को आगे नहीं ले जा सकता।
Language
Hindi
Format
Hardcover
Publisher
Vani Prakashan
Release
January 26, 2022
ISBN 13
9789350729953

Itihas Parampara Aur Aadhunikta

Dayanidhi Mishra
0/5 ( ratings)
समाज की काल चेतना से जुड़कर 'इतिहास,परंपरा और आधुनिकता' जैसी अवधारणाओं ने आज अनेक अर्थ ग्रहण कर लिए हैं और इनकी व्याख्या और उपयोग का दायरा बंता बिगड़ता रहा है। आमतौर पर संस्कृति में होने वाले परिवर्तन और उसकी निरंतरता को आत्मसात करने के लिए इन शब्दों का व्यवहार किया जाता है। प्रस्तुत पुस्तक में जो विचार उभरे हैं वे निर्विवाद रूप से इस तथ्य की ओर संकेत करते हैं कि बिना विचारे पशिम का अंधानुकरण भारतीय समाज को आगे नहीं ले जा सकता।
Language
Hindi
Format
Hardcover
Publisher
Vani Prakashan
Release
January 26, 2022
ISBN 13
9789350729953

Rate this book!

Write a review?

loader